जानिए चार दिन के महापर्व छठ पूजा का महत्व क्या है

0
191

Patna: दिवाली के बाद महापर्व छठ की बारी आती है. छठ पर्व को लोक आस्था का पर्व माना जाता है. छठ महापर्व के महत्व का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि छठ को पर्व नहीं, बल्कि महापर्व कहा जाता है. यूपी-बिहार और झारखंड के लोगों में छठ के प्रति काफी अधिक आस्था होती है.




आईए जानते हैं इस चार दिन के पर्व के हर दिन के महत्‍व के बारे में

पहला दिन
खाए नहाय, छठ पूजा व्रत का पहला दिन. इस दिन नहाने खाने की विधि की जाती है. इस दिन स्‍वयं और आसपास के माहौल को साफ सुथरा किया जाता है. लोग अपने घर की सफाई करते हैं और मन को तामसिक भोजन से दूर कर पूरी तरह शुद्ध शाकाहारी भोजन ही लेते हैं.

दूसरा दिन
खरना, छठ पूरा का दूसरा दिन होता है. इस दिन खरना की विधि की जाती है. खरना का मतलब है पूरे दिन का उपवास. व्रती व्‍यक्ति इस दिन जल की एक बूंद तक ग्रहण नहीं करता. शाम होने पर गन्ने का जूस या गुड़ के चावल या गुड़ की खीर का प्रसाद बना कर बांटा जाता है.




तीसरा दिन
इस दिन शाम का अर्घ्य दिया जाता है. सूर्य षष्ठी को छठ पूजा का तीसरा दिन होता है. आज पूरे दिन के उपवास के बाद शाम को डूबते सूर्य को अर्घ्य दिया जाता है. मान्‍यता के अनुसार शाम का अर्घ्य के बाद रात में छठी माता के गीत गाए जाते हैं और व्रत कथा भी सुनी जाती है.

चौथा दिन
छठ पर्व के चौथे और अंतिम दिन सुबह का अर्घ्य दिया जाता है. आज के दिन सुबह सूर्य निकलने से पहले ही घाट पर पहुंचना होता है और उगते सूर्य को अर्घ्य देना होता है. अर्घ्य देने के बाद घाट पर छठ माता से संतान-रक्षा और घर परिवार के सुख शांति का वर मांगा जाता है. इस पूजन के बाद सभी में प्रसाद बांट कर फिर व्रती खुद भी प्रसाद खाकर व्रत खोल लेते हैं.

Source: Ek Bihari Sab Par Bhari

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here