तांबे के बर्तन का पानी पीना शरीर को एक-दो नहीं पूरे 10 फायदे पहुंचाता है

0
314

भारतीय धर्म ग्रंथों का ही एक हिस्सा है आयुर्वेद। हेल्थ के लिए क्या सही है, क्या गलत हमारे धर्म ग्रंथों में इसे लेकर काफी कुछ लिखा गया है। आयुर्वेद ने माना है कि केवल पानी पीने की आदतों में बदलाव से हम कई तरह की बीमारियों से बच सकते हैं। आयुष दर्पण फाउंडेशन देहरादून के संस्थापक आयुर्वेदाचार्य डॉ. नवीन जोशी के मुताबिक गर्मियों में अगर तांबे के बर्तन में रखा पानी पिया जाए तो हेल्थ को कई तरह के फायदे पहुंच सकते हैं। रक्त से होनी वाली परेशानियों से लेकर कैंसर के सेल्स से लड़ने तक में ये पानी काफी मददगार साबित हो सकता है। गर्मियों में नियमित रूप से तांबे के बर्तन में रखा पानी पीना बहुत ही अच्छा प्रयोग हो सकता है, जो आपको कई मौसमी बीमारियों से दूर रखेगा।
तांबे के बर्तन के पानी से होते हैं ये फायदे

01 . आयुर्वेद में माना गया है कि ताम्बे के बर्तन में एकत्रित जल त्रिदोष नाशक होता है। इसे ‘तमारा’ जल नाम भी दिया जाता है I इसकी सबसे बड़ी खूबी होती है कि यह अधिक समय तक सुरक्षित रहता हैI
02 . ताम्बे को जीवाणुरोधी प्रभाव के कारण भी जाना जाता है। अतः ताम्बे के बर्तन में एकत्रित किया गया पानी से संक्रमण से फैलने वाले रोगों से बचा जा सकता हैI
03 . ताम्बे के बर्तन में एकत्रित किया पानी थाईरोक्सिन हारमोन के स्तर के नियंत्रण में भी मददगार होता हैI
04 . ताम्बे के बर्तन में एकत्रित जल पीना हमारे मस्तिष्क की कार्यकुशलता को भी बढाता है, साथ ही साथ सूजनरोधी प्रभाव के कारण जोड़ों के दर्द में भी लाभ प्रदान करता हैI
05 . अमेरीकन कैंसर सोसाइटी के शोध अनुसार ताम्बा कैंसर की प्रारम्भिक अवस्था में काफी मददगार होता हैI
06 . ताम्बे को अपने एंटीमाइक्रोबीयल एवं एंटीवायरल प्रभावों के कारण जल्द ही घावों को भरने वाले गुणों से युक्त माना गया हैI
07 . ताम्बे के बर्तन में एकत्रित पानी हमारे शरीर की अतिरिक्त चर्बी के साथ-साथ हमारे वजन को नियंत्रित करने में भी मददगार होता हैI
08 . ताम्बे को एक ऐसे धातु के रूप में जाना जाता है जिसकी अल्प मात्रा शरीर में संपन्न होनेवाली क्रियाओं के लिए आवश्यक होती है।
09 . यह पोषक तत्वों के रक्तवाहिनियों में संचरण को भी नियंत्रित करता है। जिससे एनीमिया जैसी स्थितियों में भी काफी लाभ मिलता हैI
10 . ताम्बे के बर्तन में एकत्रित पानी हमारे दिल सहित रक्तचाप को नियंत्रित रखता हैI

तांबे के बर्तन में रखा पानी पीने में रखें ये सावधानियां
01 . तांबे के बर्तन में रखा पानी पीना लाभदायक तो है लेकिन इसमें कुछ सावधानियां भी रखनी चाहिए। तांबे के बर्तन से पीए गए पानी के तत्काल बाद कम से कम आधा घंटे तक दूध या चाय आदि नहीं पीना चाहिए।
02 . पानी बैठकर पीना चाहिए, खड़े-खड़े ना पीएं।
03 . पानी पीकर थोड़ी देर टहलें। कुछ चहलकदमी करें। इसके बाद ही कुछ और खाएं या पीएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here