पढ़िए, आखिर बिहार क्यों है ख़ास !

0
405

बिहार का इतिहास 3000 साल पुराना है। ऐसे में इस राज्य ने पूरी दुनिया को कई ऐसी चीज़ें दी, जो आज हमारे लिए वरदान है। एक कहावत है कि देश के लिए बिहार और शरीर के लिए आहार बहुत ही जरूरी है।

ऐतिहासिक प्रमाण भी साबित करते हैं की बिहार के इतिहास के बिना भारत का इतिहास अधूरा है। बिहार काफी आरसे तक भारत की राजनीति, शिक्षा और सांस्कृतिक गतिविधियों का केंद्र रहा है।

आज आपको बिहार के गौरवमय तथ्यों के बारे में बताते हैं, जिन्हें जान कर आपका दिल भी बिहार की जयकार कर उठेगा।

      • भगवान बुद्ध को ज्ञान की प्राप्ति बिहार में ही हुई थी।
      • जैन धर्म के संस्थापक भगवान महावीर का जन्म बिहार में हुआ था।
      • माता सीता की जन्मस्थली बिहार थी।
      • संस्कृत व्याकरण के जनक पाणिनि।
      • दुनिया को शून्य, दशमलव और सूर्य सिद्धांत देने वाले आर्यभट का जन्मस्थली बिहार ही है।
      • महान अर्थशास्त्री चाणक्य भी बिहार से थे।

    मगध सम्राट अशोक ने अरब तक हिंदुस्तान का पताका फहराया।

 

  • सिक्खों के गुरु गोविंद सिंह जी का जन्म बिहार में हुआ था।
  • विश्वविजेता सिकंदर भी राजा चन्द्रगुप्त मौर्य के सामने न टिक सका।
  • विश्व का सबसे पहला लोकतंत्र बिहार में ही बना था।
  • 80 साल की उम्र में अंग्रेजों के दांत खट्टे करने वाले बिहार के बाबू वीर कुंवर सिंह।
  • गांधी जी ने आज़ादी की आधारशिला बिहार में ही रखी थी।
  • भारत के पहले राष्ट्रपति डॉ राजेंद्र प्रसाद बिहार के जन्मे थे।
  • महान शहनाई वादक बिस्स्मिल्लाह खान का जन्म बिहार में ही हुआ था।
  • माउंटेन मन के नाम से प्रसिद्ध दशरथ मांझी का जन्म बिहार में ही हुआ है।
  • देश में सबसे ज़्यादा आईआईटी और सिविल सेवा के क्षेत्र में बिहार के बच्चे ही सफ़ल रहते हैं।
  • धर्म, साहित्य, राजनीति और संस्कार बिहार की पहचान हैं। हालाँकि सही नेतृत्व न मिलने के कारण यह राज्य विकास के मामले में पिछड़ गया। आशा है कि एक दिन वो वक्त आएगा जब यहाँ की परिस्थिति भी बदलेगी और बिहार में फिर से बहार आ जायेगा।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here