विराट कोहली फिर ब्रांड सेलेब्रिटी की लिस्‍ट में टॉप पर, कई दिग्‍गज बॉलीवुड सितारे छूटे पीछे

0
57

अंतरराष्ट्रीय मूल्यांकन एवं कॉरपोरेट फाइनेंस सलाहकार डफ एंड फेल्प्स की गुरुवार को जारी चौथे संस्करण की रिपोर्ट के मुताबिक भारतीय क्रिकेट कप्तान विराट कोहली लगातार दूसरे वर्ष सबसे महंगे ब्रांड सेलेब्रिटी की सूची में सबसे ऊपर हैं। 2018 में 18 फीसद वृद्धि के साथ उनकी ब्रांड वैल्यू 17.90 करोड़ डॉलर (1259 करोड़ रुपये) हो चुकी है। क्रिकेटर ने नवंबर 2018 तक 24 ब्रांडों का विज्ञापन किया है।

इस सूची में 10.25 करोड़ डॉलर ( 721.49 करोड़ रुपये) ब्रांड वैल्यु के साथ बॉलीवुड अभिनेत्री दीपिका पादुकोण दूसरे स्थान पर हैं। दीपिका 21 ब्रांडों का विज्ञापन कर रही हैं।

किसका कितना योगदान
दोनों एकमात्र ऐसे सेलेब्रिटी हैं जिनकी ब्रांड वैल्यू 10 करोड़ डॉलर से अधिक है। शीर्ष 20 सेलेब्रिटी की कुल ब्रांड वैल्यु 87.7 करोड़ डॉलर (6173.20 करोड़ रुपये) है। इसमें शीर्ष 10 सेलेब्रिटी का कुल मूल्य में 75 फीसद से अधिक का योगदान है।

अक्षय-रणवीर रहे बरकरार
बॉलीवुड के खिलाड़ी अक्षय कुमार और रणवीर सिंह ने भी इस क्षेत्र में अपनी रैंकिंग में सुधार करते हुए तीसरा और चौथा स्थान हासिल किया है। जहां अक्षय की ब्रांड वैल्यू 6.73 करोड़ डॉलर (473.72 करोड़ रुपये) है। वहीं रणवीर की 6.3 करोड़ डॉलर (446.67 करोड़ रुपये) है।

बॉलीवुड हस्तियों का दबदबा
खिलाड़ियों की तुलना में शीर्ष 20 सेलेब्रिटी की सूची में बॉलीवुड हावी रहा। जहां विराट कोहली, सचिन तेंदुलकर, एमएस धौनी और पीवी सिंधु ने सामूहिक रूप से लगभग 24.10 करोड़ डॉलर (1696.39 करोड़ रुपये) का योगदान रहा जो शीर्ष 20 सेलेब्रिटी की कुल ब्रांड वैल्यू 87.7 करोड़ डॉलर (6173.20 करोड़ रुपये) का 27 फीसद है। का योगदान दिया।

पावर कपल का बढ़ता क्रेज
रिपोर्ट में ब्रांड के तौर पावर कपल के बढ़ते रुझान पर भी ध्यान दिया गया है। इस साल पावर जोड़ी विराट कोहली और अनुष्का शर्मा ने मान्यवर, पेप्सी, सेल्कोन, बूस्ट, ऑडी, फास्टट्रैक जैसे 24 लगभग 40 ब्रांडों का विज्ञापन किया है। शाहरुख की फीकी चमक अभिनेता शाह रुख खान दूसरे पायदान से खिसक कर पांचवें पायदान पर आ गए। उनकी ब्रांड वैल्यू 6.07 करोड़ डॉलर (427.26 करोड़ रुपये) है।

विज्ञापनों में वृद्धि
ईएसपी प्रॉपर्टीज के आंकड़ों के अनुसार सेलेब्रिटी की अगुवाई वाले विज्ञापन की संख्या में वृद्धि हुई है। 2007 में 650 से बढ़कर यह आंकड़ा 2017 में 1,660 हो गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here