मकई उत्पादन में बिहार बना नंबर 1, केंद्र सरकार से वर्ष 2016-17 के लिए मिला कृषि कर्मण पुरस्कार

0
229

बिहार का चयन एक बार फिर कृषि कर्मण पुरस्कार के लिए हुआ है। राज्य को यह पुरस्कार वर्ष 2016-17 में मक्का के उत्पादन में बेहतर प्रदर्शन के लिए मिलेगा। राज्य सरकार के साथ दो उच्चतम उत्पादन करने वाले किसानों को भी केन्द्र सरकार पुरस्कृत करेगी। कृषि मंत्री डॉ. प्रेम कुमार ने इसके लिए राज्य के किसानों को बधाई दी है।

बिहार को यह सफलता चौथी बार मिली है। साथ ही मक्का उत्पादन के लिए लगातार दूसरी बार यह पुरस्कार मिलेगा। इसके पहले भी चावल, गेहूं और मक्का के उत्पादन के लिए कृषि क्षेत्र में देश का यह सर्वश्रेष्ठ पुरस्कार मिल चुका है। बिहार को पहली बार कृषि कर्मण पुरस्कार वर्ष 2011-12 में चावल के सर्वाधिक उत्पादन के लिए मिला था।

उसके बाद 12-13 में गेहूं और 2015-16 में मक्का के सर्वाधिक उत्पादन के लिए यह पुरस्कार मिला था। 2016-17 में राज्य में मक्का का कुल उत्पादन 38. 46 लाख टन हुआ था। साथ ही उत्पादकता भी बढ़कर 53. 35 क्विंटल प्रति हेक्टेयर दर्ज की गई है, जो एक रिकॉर्ड है। साथ ही यह उत्पादकता राष्ट्रीय स्तर पर सर्वाधिक है।

कृषि मंत्री ने कहा है कि कृषि के विकास के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के मार्गदर्शन में बने कृषि रोड मैप को जमीन पर उतारने का नतीजा है कि राज्य को चार बार कृषि कर्मण पुरस्कार से नवाजा गया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का वर्ष 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने के संकल्प को पूरा करने के लिए कृषि विभाग पूरी तत्परता के साथ दृढ़संकल्पित होकर कार्य कर रहा है।

Source:-live Bihar

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here