झुग्गी में रहने वाली पूजा ऐसे बनी थी IAS अफसर,सारी रात स्ट्रीट लाइट के नीचे बैठकर करती थी पढ़ाई

0
317

लगन और कड़ी मेहनत से नामुमकिन को भी मुमकिन किया जा सकता है। इसका सीधा उदाहरण है श्रीगंगानगर रेलवे पटरियों के पास बनी झुग्गी झोपड़ी में रहकर स्ट्रीट लाइट की रोशनी में पढ़ने वाली बेहद गरीब दलित परिवार की बेटी पूजा नायक। पूजा ने ये साबित कर दिया है कि नामुमकिन कुछ भी नहीं है।

कहते हैं ना कि अगर आपके अंदर प्रतिभा है तो आपको कोई रोक नहीं सकता है, ना ही परिस्थितियों में आपको कोई बांध सकता है। यदि पूरे जुनून और नेक इरादे से काम किया जाए तो हर सपने को साकार किया जा सकता है। पूजा नायक ने आईएएस बनकर पूरे देश में अपने लगन और मेहनत का लोहा मनवाया है। श्रीगंगानगर रेलवे पटरियों के पास बनी एक अनजान झुग्गी झोपड़ी में रहने वाली पूजा नायक प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले छात्रों और देश के लाखों गरीब बच्चों के लिए प्ररेणादायक है।

पूजा नायक की 2 बहनें और 1 भाई है। पूजा बेहद गरीब परिवार से आती हैं। एक गरीब परिवार की लड़की जिसका बचपन में ही सिर से पिता का साया उठ गया हो मां ने मजदूरी करते हुए इस बेटी को पढ़ाया है। जी हां- पूजा साल 2017 बैच की IAS ऑफिसर है। पिता का साया उठने के बाद पूजा की मां ने किसी तरह मजदूरी कर तीन बेटियों और एक बेटे को पाला है। सबसे अच्छी बात ये है कि पूजा की मां ने सभी बच्चों को अच्छी परवरिश दी है और सबको पढ़ाया है।

गरीब दलित परिवार की इस बेटी के आईएएस बनने की खबर पूरे सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुआ था। आपको बता दें पूजा जब मात्र 4 साल की थी तब उनके पिता की मौ’त हो गयी थी। उनके घर मे बिजली तक नहीं थी, तब वह किसी तरह पास के स्ट्रीट लाइट की रोशनी में ही अपनी पढ़ाई करती थी और आज पूजा IAS ऑफिसर है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here