SC-ST के खिलाफ राष्ट्रपति भवन के सामने आत्मदाह करने का ऐलान, PM मोदी को भेजा पत्र

0
125

PATNA : अखिल भारतीय अपराध विरोधी मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष धनवंत सिंह राठौर ने एससी-एसटी एक्ट को काला कानून बताते हुए इसे वापस लेने और आर्थिक आधार पर आरक्षण लागू करने की मांग को लेकर 2 अक्टूबर को गांधी जयंती पर राष्ट्रपति भवन के समक्ष आत्मदाह करने का ऐलान किया है।




शुक्रवार को संवाददाता सम्मेलन में उन्होंने बताया कि इस संबंध में उन्होंने राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और सर्वोच्च न्यायालय के मुख्य न्यायधीश को पत्र लिखा है। अखिल भारतीय सवर्ण मोर्चा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शशिरंजन सिंह ने कहा कि मोर्चा वर्तमान स्वरूप वाले एससी-एसटी एक्ट को समाप्त करने की मांग करता है, नहीं तो ठीक उसी प्रकार का सवर्ण एक्ट सवर्णों के लिए अविलंब बनाया जाए। राष्ट्रीय संगठन सचिव राजीव शुक्ला भी मौजूद थे।




रामविलास पासवान ने SC-ST पर खोला सवर्णों के खिलाफ मोर्चा, कहा- ‘फ्लाप’ रहा भारत बंद : एससी एसटी एक्ट के विरोध में हुए भारत बंद पर लोजपा सुप्रीमों रामविलास पासवान ने सवर्ण समाज पर जमकर हमला बोला है। एससी/एसटी एक्ट के खिलाफ गुरुवार को किए गए भारत बंद की निंदा की और कहा कि इसका असर तीन- चार राज्यों के कुछ जगहों पर रहा। रामविलास पासवान ने कहा कि इस आंदोलन पर कई राजीतिक दलों की चुप्पी बता रही है कि एससी/एसटी एक्ट के विरोध में बंद को उनका समर्थन था। पार्टी कार्यालय में शुक्रवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने कहा कि लोजपा सभी जातियों की लड़ाई लड़ती है। दलितों के लिए लड़ता हूं। अल्पसंख्यकों के लिए भी लड़ा हूं। जरूरत पड़ी तो सवर्णो को 15 प्रतिशत आरक्षण की लड़ाई भी हम लड़ेंगे।




बताते चले कि एससी/एससी एक्ट में सुप्रीम कोर्ट के फैसले को पलटकर अध्यादेश लाने के बाद केंद्र सरकार की मुश्किलें बढ़ गई  है। देशभर में सवर्णों का प्रदर्शन बीजेपी के गले की फांस बन गया है। सवर्णों का कहना है कि ऐसा काला कानून अंग्रेजों के जमाने में भी देश में लागू नहीं था। इस कानून का गलत फायदा उठाया जाता रहा है। बिहार में भी कई बार सवर्ण इस एक्ट के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। ट्रेने रोक चुके हैं।

Source : Live Bihar

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here