गुरुवार को जगत पालनहार भगवान विष्णु के इस रूप की करें पूजा, होगा उद्धार

0
260

बृहस्पतिवार का दिन विष्णु जी के सभी स्वरूपों की पूजा के लिए अच्छा माना जाता है।इन्हीं में से एक रूप है शालिग्राम का जिसे पूजने से भगवान विष्णु प्रसन्न होते हैं।अपने भक्तों की सभी परेशानियों को कम करते हैं। बृहस्परतिवार को शालीग्राम की पूजा करने से सारे पाप मिट जाते हैं।

ऐसे करें पूजा

शलिग्राम की पूजा में सबसे पहले इसे स्ना न करा कर इस पर चंदन चढ़ाएं. इसके बाद फूल और अक्षत डालें. इसके बाद तुलसी अर्पित करें और विष्णुर मंत्रों का जाप करते हुए प्रार्थना करें।

इसकी पूजा के लिए हमेशा घर साफ रखना चाहिए, साथ ही इसे विष्णु की प्रतिमा के पास रखना फलदायी माना जाता है।

ऐसा माना जाता है कि जिस घर में शालीग्राम की रोज पूजा होती है, वहां लक्ष्मी का वास होता है।

इस रूप में वे काले रंग के पत्थर के रूप में नजर आते हैं. शालीग्राम के पत्थर हमारे देश में नहीं पाए जाते हैं।

ये पत्थर नेपाल में बहने वाली गंडकी नदी में पाए जाते हैं।

इस नदी को तुलसी का एक रूप भी माना जाता है।

यही कारण है कि पूजा करते समय यदि आप शालीग्राम के ऊपर तुलसी के पत्ते अर्पित करते हैं तो भगवान विष्णु जल्दी प्रसन्न हो जाते हैं।

ऐसी मान्यता है कि घर में सिर्फ एक ही शालीग्राम होना चाहिए. शालिग्राम की पूजा के दौरान कभी भी बिना नहाए नहीं छूना चाहिए।

इनकी पूजा के समय मन शुद्ध होना चाहिए. शालीग्राम पूजा में तुलसी का पत्ता चढ़ाने से धन, वैभव की प्राप्तिच होती है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here