आधा जमीन पर तो आधा जमीन के ऊपर दौड़ेगी पटना मेट्रो, बहुत जल्द सपना होगा पूरा

0
219

पटना: राजधानी पटना में बहुत जल्द मेट्रो दौड़ने लगेगी। लोगों का सपना पूरा होने वाला है। इसे बनाने के लिए सरकार काफी तेजी दिखा रही है। बताया जा रहा है कि राजधानी में दो फेज में मेट्रो का संचालन होना है। पहले फेज के लिए बनाई गई डीपीआर में ईस्ट-वेस्ट और नॉर्थ-साउथ दो कॉरिडोर प्रस्तावित हैं। जमीन की उपलब्धता के हिसाब से तैयार फाइनल डीपीआर में जमीन के ऊपर और अंदर लंबाई लगभग बराबर है। यानी आधी दूरी में एलिवेटेड और आधी अंडरग्राउंड दौड़ेगी। दोनों कॉरिडोर में कुल 31.39 किलोमीटर में 15.64 किलोमीटर एलीवेटेड और 15.75 किलोमीटर अंडरग्राउंड लाइन बिछाई जाएगी।




राजधानी में मेट्रो की लाइन बिछाने में एलीवेटेड (ऊपर से) की तुलना में अंडरग्राउंड का खर्च दोगुना होगा। मेट्रो की फाइनल डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) के हिसाब से मेट्रो के निर्माण में 360 करोड़ रुपये प्रति किलोमीटर का औसत खर्च आएगा। करीब 31 किलोमीटर के दोनों कॉरिडोर के निर्माण पर 11 हजार करोड़ से अधिक खर्च होंगे। जबकि पूरे प्रोजेक्ट की लागत करीब 18 हजार करोड़ है। लोक वित्त समिति से मंजूरी के बाद यह लगभग तय है कि बिना किसी फेरबदल के इस सप्ताह होने वाली राज्य कैबिनेट से भी इसे हरी झंडी मिल जाए। केंद्र से भी बदलाव की संभावना कम है।




डीपीआर के अनुसार एलीवेडेट मेट्रो निर्माण में 243.30 करोड़ प्रति किलोमीटर के हिसाब से खर्चा आएगा। वहीं अंडरग्राउंड लाइन बिछाने में यह खर्च 477.50 करोड़ प्रति किलोमीटर होगा। जमीन की कीमत, पुर्नवास और पुर्नव्यवस्थापन को छोड़कर इस पूरे प्रोजेक्ट की लागत 11 हजार 325 करोड़ 76 लाख है। इसे यदि अलग-अलग देखें तो एलीवेटेड मेट्रो के निर्माण पर 3805.19 करोड़ और अंडरग्राउंड पर 7520.57 करोड़ खर्च आएगा।

Source: Live Bihar

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here