माता शीतला के मंदिर में है चमत्कारी घड़ा,800 सालों से लोग भर रहे पानी,लेकिन आजतक नहीं भरा घड़ा

0
174

लोगों की मान्यता है कि इस घड़े का पानी कोई राक्षस पी लेता है। कहते हैं 800 साल पहले यह गांव एक रक्षक के प्रकोप से जूझ रहा था। इस घड़े को सालभर में दो बार श्रद्धालुओं के सामने लाया जाता है। साल में दो बार खोले जाने वाला यह घड़ा आधा फीट गहरा और आधा फीट चौड़ा बताया जाता है। इस घड़े पर रहे इस पत्थर को शीतला सप्तमी और ज्येष्ठ माह की पूनम पर ही हटाने की प्रथा है।

राजस्थान के पाली जिले में माता शीतला का एक बहुत ही प्रसिद्ध मंदिर स्थापित है। इस मंदिर के प्रसिद्ध होने की वजह है इस मंदिर का चमत्कारी घड़ा। इन दोनों मौकों पर गांव और आसपास के गावों की महिलाएं इस चमत्कारी घड़े को भरने की कोशिश करती हैं। लेकिन हैरान कर देने वाली बात यह है कि इस घड़े में जितना भी पानी डाल दिया जाए यह कभी नहीं भरता।

इस घड़े में अब तक 50 लाख लीटर से ज्यादा पानी भरा जा चुका है। लोगों का कहना है कि इस घड़े में गांव की सभी महिलाएं मटके भर-भरकर पानी डालती हैं लेकिन यह चमत्कारी घड़ा 800 सालों से कभी भरा नहीं। पूजा के समाप्त होने पर मंदिर के पुजारी शीतला माता के चरणों में दूध का भोग लगाते हैं और इसके बाद इस चमत्कारी घड़े को बंद कर दिया जाता है। लोगों की मान्यता है कि इस घड़े का पानी कोई राक्षस पी लेता है। इसलिए इसमें पानी कभी भरता नहीं।

कहा जाता है तपस्या से खुश होकर माता शीतला एक ब्राह्मण के सपने में आईं और बताया कि जिस दिन उसकीविवाह होगा, उसी दिन वह राक्षस को मा’र देंगी। उस दिन माता एक छोटी बच्ची के रूप में प्रकट हुई और अपने घुटनों से दबोंचकर राक्षस का अंत कर दिया। राक्षस ने मरते समय में शीतला माता से वरदान मांगा कि उसे प्यास बहुत लगती है। माता से उसने वरदान मांगा कि उसे साल में दो बार पानी पिलाया जाए। माता ने उसे वरदान दे दिया बस तभी से इस गांव में यह परंपरा निभाई जाती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here