देश की सबसे मॉडर्न Train 18 स्पीड में पास, लेकिन इस मामले में हुई फेल

0
73

सफल परीक्षण के बाद ट्रेन-18 को चलाने की तैयारी की जा रही है. परीक्षण के दौरान यह ट्रेन 180 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से दौड़ी थी जो अब तक भारत के इतिहास में सबसे ज्यादा है. लेकिन, ट्रेन से जुड़ी एक बुरी खबर आ रही है. इस ट्रेन में जगह की काफी कमी है, जिसकी शिकायत IRCTC ने की है. IRCTC का कहना है कि कम जगह होने की वजह से कैटरिंग के लिए स्पेस नहीं है. ऐसे में यात्रियों को उनकी पसंद का खाना कैसे मिल पाएगा.

आईआरसीटीसी के एक सूत्र ने कहा, ”ट्रेन में राजधानी में उपलब्ध स्थान की एक तिहाई जगह ही थी. इस बारे में इंट्रीग्रल कोच फैक्ट्री को बता दिया गया है और वे डिब्बे में बदलाव की प्रक्रिया में हैं.”सूत्रों के मुताबिक खबर है कि, ट्रेन में जगह की कमी को देखते हुए सीट की संख्या में कमी की जा सकती है. अभी तक ट्रेन में मिलने वाले खाने को लेकर मेनु भी फाइनल नहीं हो पाया है. IRCTC ने रेलवे से अपील की है कि हम चाहते हैं कि ट्रेन-18 में यात्रियों को भिन्न-भिन्न प्रकार का खाना मिले.


बता दें, ट्रेन 18 दिल्ली से वाराणसी के बीच चलेगी. यह ट्रेन आठ घंटों में दिल्ली से वाराणसी की दूरी तय करेगी. अब तक दोनों शहरों के बीच चलने वाली सबसे तेज गति वाली ट्रेन साढ़े ग्यारह घंटे का समय लेती हैं. इस ट्रेन में वाई-फाई, सीसीटीवी कैमरों के साथ अंतरराष्ट्रीय मानकों की सुविधाएं होंगी और इसमें कोई इंजन नहीं है. यह ट्रेनसेट है. यह 160 किलोमीटर प्रति घंटे की अधिकतम रफ्तार के साथ 750 किलोमीटर की दूरी तय करेगी.

Sources:-Zee News

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here